वनडे क्रिकेट के ऐसे 5 बेहतरीन ओपनर जो टेस्ट में किए काफ़ी कम ओपनिंग

516
वनडे क्रिकेट के ऐसे 5 बेहतरीन ओपनर जो टेस्ट में किए काफ़ी कम ओपनिंग 5 oneday openers does not open in test

क्रिकेट के किसी भी मैच में ओपनर्स की भूमिका बहुत खास होती है। यदि किसी मैच में सलामी बल्लेबाज अच्छी शुरुआत करते हैं, तो मध्यक्रम के बल्लेबाजों के साथ-साथ टीम की भी मजबूती कायम हो जाती है। वैसे खिलाड़ियों के लिए क्रिकेट मैच में ओपनिंग करना काफी मुश्किल भरा काम होता है, यह ऐसा प्लेटफार्म है जिसके लिए अनुभवी खिलाड़ियों की जरूरत होती है। क्योंकि नए गेंदबाज के साथ बल्लेबाजी करना कभी आसान नहीं रहता है। देखा जाए तो टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग करना आसान काम नहीं होता है लेकिन टीम में धुरंधर बल्लेबाजों की कोई कमी भी नहीं रहती है। आइए जानते हैं एकदिवसीय क्रिकेट के ऐसे सलामी बल्लेबाजों को जो टेस्ट क्रिकेट में सबसे कम ओपनिंग किए हैं।

एक दिवसीय टेस्ट क्रिकेट में सबसे कम ओपनिंग करने वाले बल्लेबाज-

एडम गिलक्रिस्ट- एडम गिलक्रिस्ट का नाम ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज बल्लेबाजों के श्रेणी में लिया जाता है। वे ना सिर्फ ऑस्ट्रेलिया बल्कि पूरे विश्व के सर्वश्रेष्ठ सलामी बल्लेबाजों में से एक हैं। गिलक्रिस्ट अपने क्रिकेट कैरियर में 287 वनडे मैच खेलते हुए 279 पारियों में कुल 9619 रन बनाए हैं। एक खास बात यह भी है कि गिलक्रिस्ट बतौर ओपनर 9200 रन अपने नाम कर रखे हैं। एडम गिलक्रिस्ट के क्रिकेट कैरियर पर एक नजर डाला जाए तो वह 96 टेस्ट मैचों की 137 पारियों में 5570 रन बनाए हैं। लेकिन टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग करते हुए कोई खास रिकॉर्ड अपने नाम नहीं कर पाए। 2007 में न्यूजीलैंड के खिलाफ हुए टेस्ट मैच के दौरान ओपनिंग करते हुए गिलक्रिस्ट मात्र 20 रन ही बना पाए।

No.1 Hindi Cricket News website- Crictrack.in- Daily Hindi Cricket, Hindi cricket news Crictrack, cricket news Hindi.

सौरभ गांगुली- भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और वर्तमान बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरभ गांगुली का नाम भला कौन नहीं जानता होगा। वे अपने समय के सबसे शानदार बल्लेबाज रहे हैं। चाहे स्पिनर्स को फ्रंट फुट पर आकर छक्का मारना हो या फिर इंडियन क्रिकेटर्स में आक्रामकता का संचार करना हो, ऐसी अनेकों कामों के लिए गांगुली अपना संपूर्ण योगदान दिए हैं। सौरव गांगुली के एकदिवसीय कैरियर को देखा जाए तो वे 311 मैच के 300 पारियों में 15000 से भी अधिक रन बनाए हैं। उनका टेस्ट कैरियर भी काफी शानदार रहा है। वे टेस्ट कैरियर में 133 मैच के 188 पारियों में 7212 रन बनाए हैं। वे देश के लिए सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ियों में टॉप10 में शामिल हैं।

सौरव गांगुली वनडे क्रिकेट में ओपनिंग करते हुए टेस्ट क्रिकेट में भी अपना संपूर्ण योगदान दिए हैं। गांगुली को टेस्ट क्रिकेट में 4, 5 और 6 नंबर पर भी खेलते हुए देखा गया है। गांगुली एकदिवसीय क्रिकेट मैच में ओपनिंग करते हुए 236 पारियों में 9146 रन बनाए हैं। वे टेस्ट क्रिकेट में सिर्फ एक ही पारी में ओपनिंग किए हैं, जिसमें मात्र 11 रन ही बना पाए।

सचिन तेंदुलकर- क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का नाम हर रिकॉर्ड में शामिल ही है। वे एक दिवसीय मुकाबलों में विश्व के महानतम सलामी बल्लेबाज रहे हैं। तेंदुलकर एकदिवसीय क्रिकेट में ओपनिंग के अलावा तीन और चार नंबर पर बल्लेबाजी भी किए हैं। एकदिवसीय क्रिकेट मैच में बतौर ओपनर सचिन तेंदुलकर में 15130 रन बनाए हैं लेकिन वह टेस्ट क्रिकेट में सिर्फ एक बार ही ओपनर की भूमिका निभाए हैं। 1999 में अहमदाबाद में न्यूजीलैंड के खिलाफ हुए टेस्ट मैच में तेंदुलकर अपनी पारी की शुरुआत किए थे, जिसमें वह मात्र 15 रन ही बना पाए थे।

No.1 Hindi Cricket News website- Crictrack.in- Daily Hindi Cricket, Hindi cricket news Crictrack, cricket news Hindi.

हाशिम अमला- दिग्गज सलामी बल्लेबाजों में शामिल दक्षिण अफ्रीका के हाशिम अमला एकदिवसीय क्रिकेट कैरियर की शुरूआत बतौर ओपनर ही किए थे। अपने कैरियर में तीन एकदिवसीय मुकाबलों में वे तीन नंबर पर बल्लेबाजी किए थे। टेस्ट क्रिकेट में हाशिम अमला तीन नंबर पर बल्लेबाजी किए और 215 पारियों में 9282 रन बनाए। वे दो पारियों में ओपनिंग करते हुए 105 रन अपने नाम किए थे। यह उनका टेस्ट मैच में आखिरी ओपनिंग था, इसके बाद उन्हें किसी भी टेस्ट मैच में ओपनिंग करते हुए नहीं देखा गया।

No.1 Hindi Cricket News website- Crictrack.in- Daily Hindi Cricket, Hindi cricket news Crictrack, cricket news Hindi.

क्विंटन डी कॉक- क्विंटन डी कॉक दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान और एकदिवसीय क्रिकेट के सलामी बल्लेबाजों में से एक हैं। वे दक्षिण अफ्रीका के लिए वनडे मैचों में ओपनर की भूमिका निभाते हुए सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों में से भी एक हैं। शुरुआत में उन्हें टेस्ट क्रिकेट में खेलने का मौका बहुत कम मिला लेकिन वे अपने शानदार प्रदर्शन के वजह से दक्षिण अफ्रीका की टेस्ट टीम में मध्यक्रम के सबसे शानदार बल्लेबाज बन गए। डी कॉक 5000 से भी अधिक रन बनाकर अधिक सफलता नहीं पाए। वे टेस्ट मुकाबले की चार पारियों में बल्लेबाज़ी करते हुए 35 के औसत से 141 रन ही बना पाए हैं।